• Search the Web

अफगानिस्तान मे उथल पुथल का सामरिक असर

Afghanistan and America 1

अफगानिस्तान और भारत एक दूसरे के पड़ोस में स्थित दक्षिण एशियाई क्षेत्रिय सहयोग संगठन (दक्षेस) के दो सदस्य हैं। महाभारत काल में अफगानिस्तान के गांधार (वर्तमान में कंधार) की राजकुमारी का विवाह हस्तिनापुर (वर्तमान दिल्ली) के राजा धृतराष्ट्र से हुआ था। 21वीं सदी में तालिबान के पतन के बाद से भारत ने अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण में रचनात्मक भूमिका निभाई है। 4 अक्टूबर 2011 को दोनो देशों के मध्य हुई बैठक में सामरिक मामले, खनिज संपदा की साझेदारी और तेल और…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 12

India China Story

मौजूदा परिस्थितियों में चीन के विकल्प पिछले अंक में हमने देखा की भारत के पास सिर्फ दो ही विकल्प हैं। इसके विपरित चीन के पास तीन विकल्प मौजूद हैं। चीन के पास भी पहला विकल्प यही है कि वह हमारी मांग को मानते हुए अप्रैल 2020 की स्थिति में आ जाये और भारत की तरफ एक सच्चे पड़ौसी देष की तरह दोस्ती का हाथ बढ़ाये। परंतु क्या यह संभव है ? क्या चीन अपनी विस्तारवादी नीतियों को छोड़ सकता है?…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 5

India China Story

भारत और चीन के लिए लद्दाख का सामरिक महत्व 2018 में भारत का एक केन्द्र शासित प्रदेष बने लद्दाख के दक्षिण में जंसकार पर्वतमाला और उत्तर में काराकोरम पर्वतमाला है और बहुत पुराने समय से ही सिल्क रूट के लिए प्रसिद्ध रहा है। भारत और चीन दोनों के लिए लद्दाख का बहुत बड़ा सामरिक महत्व है। भौगोलिक दृष्टि से भारत के सबसे बड़े केन्द्र शासित प्रदेश लद्दाख का हमारे पास कुल इलाका 59 हजार वर्ग किलोमीटर है जबकि गिलगिट बाल्टिस्तान…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 4

India China Story

सत्रहवें करमापा को शरण देने से खीझा चीन जनवरी 2000 में जब दलाईलामा का उत्तराधिकारी सत्रहवां करमापा चीन के कब्जे से किसी तरह छूटकर हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में आ गया। दलाइलामा को भारत में शरण देने से नाराज चीन सत्रहवे करमापा के भारत पहुंचने से और झुंझला गया। इसके बाद चीन सरहद पर छुटपुट घटनाएं चलती रहीं। लेकिन 2000 में जब चीन ने अक्साई चीन इलाके की वास्तविक नियंत्रण रेखा के करीब 5 किलोमीटर भीतर पक्की सडक़ बना ली…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 11

India China Story

मौजूदा परिस्थितियों में भारत और चीन के विकल्प पिछले कुछ दिनों में हमने भारत चीन के सम्बंधों के अलग-अलग आयामों का विष्लेषण किया। अब हम इन परिस्थितियों में भारत और चीन के विकल्पों के बारे में चर्चा करेंगे। जहाँ तक भारत का सवाल है हमारे पास सिर्फ दो ही विकल्प हैं। हम या तो हमेषा की भांति चीन की दादागिरी भरी विस्तारवादी नीति के सामने झुकते हुए चीन द्वारा कब्जा की हुई भूमि को छोड़ दें, भूल जायें की अक्साई…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 10

India China Story

दक्षिण चीन सागर- सामरिक दृष्टि पैरासल और स्र्पाटले द्विपसमूह दक्षिण चीन सागर के दक्षिण और पूर्व में स्थित है। ये दोनों द्विप छोटे-छोटे द्विपसमूहों से मिलकर बने हैं जिनपर आसपास के देषों के अलावा चीन भी अपना हक जमाता रहा है। सामरिक दृष्टि से पैरासल और स्र्पाटले द्विपसमूह दक्षिण चीन सागर में प्रवेष और निर्गम को नियंत्रित करते हैं। इसके अलावा वैष्विक समुद्री कानून के अनुसार तट से 200 किमी के समुद्री क्षेत्र पर किसी भी देष का अधिकार विषिष्ट…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 3

India China Story

हम सहते रहे और वो हमें चमकाते रहे। भारत को अपनी कूटनीतिक अक्षम्य भूलों का सिला 1962 में चीन के हाथों लड़े गए आधे अधूरे युद्ध में पराजय से मिला और इससे भी शर्मनाक बात तो यह रही कि श्रीलंका जैैसे अदने से देश ने चीन के साथ हमारी मध्यस्थता कराई। भारत के यह मानने में कई साल गए कि चीन कभी भी हमारा स्वाभाविक मित्र  नहीं बन सकता। वह 1955 से लगातार अपने विस्तारवादी नीतियों पर खुले आम चल…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 2

India China and POK

मैदान मेेंं जीतते रहे , लेकिन मेज पर हारते रहे उन्नीस सौ बासठ की लड़ाई में हार और चीनी धोखे के बाद भारतीय राजनेताओं की सोच में बदलाव आया। वो यह कि देश की सीमा को सुरक्षित रखने के लिए मजबूत और सुसज्जित सेना की जरूरत है। इसी बदली हुई सोच का नतीजा 1965 में देखने को मिला। पाकिस्तान ने भारत की कमजोरी को भांपकर हमला किया लेकिन उसे बुरी तरह मुंह की खाना पड़ी। लाल बहादुर शास्त्री के नेतृत्व…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 1

India China and POK

भारत-चीन सीमा के  बीच जारी विवाद अब गहरे तनाव में तब्दील हो चुका है। लेकिन देश में मौजूद दूसरे मुद्दों की तरह लोगों का एक बड़ा तबका आधी अधूरी जानकारियों के आधार पर अपनी राय दूसरों पर थोपने की कोशिश कर रहा हैं। ऐसा करने वालों में देश के कई जिम्मेदार दल भी हैं जिनके कुछ नेता प्रधानमंत्री को घेरने के फेर में ऐसी बयानबाजी करते दिख रहे हैं जिससे यह आभास होता है कि मानों वह देश हित की…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 9

India China Story

दक्षिण चीन सागर और भारत इससे पहले की हम दक्षिण चीन सागर के बारे में बातचीत करें यह जानना जरूरी है कि हमारे लिए दक्षिण चीन सागर की क्या अहमियत है ? एक ऐसी जगह जो हमारे देष से काफी दूर है और जिससे हमारी कोई सीमाएं नहीं लगती हैं वह चीन के प्रति हमारे लिए सामरिक दृष्टि से किस प्रकार महत्वपूर्ण है ? दक्षिण चीन सागर, चीन के दक्षिण में और इंडोनेषिया के उत्तर में 36 लाख स्क्वेयर किलोमीटर…

Continue reading

आर्मेनिया अजरबैजान युद्ध और भारत- कर्नल डाॅ. भारत भूषण वत्स (से.नि.)

Armenia Azerbaijan War 1

आर्मेनिया अजरबैजान युद्ध और भारत भूतपूर्व सोवियत संघ के विघटन के बाद बने 15 देषों में से अजरबैजान और आर्मेनिया भी हैं। सेंट्रल एषिया के दक्षिण काकेषस पर्वत के इलाके में स्थित अजरबैजान आर्मेनिया से तकरीबन तीन गुना बड़ा है। दोनों देषों के मध्य डेढ लाख की आबादी और सिर्फ 4400 वर्ग किमी क्षेत्रफल का लैण्ड लाॅक्ड इलाका नार्गोनो काराबाख हमारे हरियाणा प्रांत के बराबर है और दोनों देषों के बीच संघर्ष का कारण बना हुआ है। नार्गोनो काराबाख के…

Continue reading

भारत चीन और पी.ओ.के. – कुछ सम्भावनाएं- कर्नल डाॅ. भारत भूषण वत्स (से.नि.)

India China and POK

पाकिस्तान के करांची शहर के नजदीक ग्वादर पोर्ट से, अरब सागर में पहुँच कर अफ्रिका और पष्चिमी एषिया के देषों में अपना तैयार माल पहुँचाने के लिए और वहाँ से सस्ता कच्चा माल लाने के लिए 2013 में चीन ने चाईना पाकिस्तान इकाॅनोमिक काॅरिडोर (सीपैक) की योजना बनाई हुई है। सीपैक सड़क और रेल परिवहन नेटवर्क, ऊर्जा प्रोजेक्ट्स और स्पेषल इकाॅनोमिक जोन्स से सज्जित योजना है। लगभग 65 बिलियन डाॅलर के इस महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट में चीन को कई चुनौतियों का…

Continue reading

मलक्का जलसंधि और वैष्विक व्यापार की दुविधा – कर्नल डाॅ. भारत भूषण वत्स (से.नि.)

Malacca Strait

मलेषिया के मलक्का बादषाही के नाम पर, मलेषिया और इंडोनेषिया के सुमात्रा द्वीप के मध्य स्थित मलक्का जलसंधि आजकल सुर्खियों में है। हिंद महासागर से दक्षिण चीन सागर होकर प्रषांत महासागर को जोड़ने वाली यह तंग जलसंधि 1.7 समुद्री मील चैड़ी और 550 समुद्री मील लम्बी है। चीन के अतिरिक्त दक्षिण चीन सागर में स्थित ताईवान, फिलिपिंस, मलेषिया, ब्रुनेई, इंडोनेषिया, सिंगापुर और वियेतनाम के अलावा जापान, दक्षिण कोरिया और वैष्विक व्यापार के लिए भी मलक्का जलसंधि महत्वपूर्ण है। चीन दक्षिण…

Continue reading

भारत और चीन – मौजूद स्थिति का आंकलन – कर्नल डाॅ. भारत भूषण वत्स (से.नि.)

भारत और चीन 2

13 दिसम्बर 2001 को लष्कर-ए-तोयबा और जैष-ए-मोहम्मद आतंकवादी संगठनों ने जब लोकतन्त्र की नींव, हमारी संसद पर आक्रमण किया तो प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी बाजपेयी ने तुरंत फैसला लेते हुए भारतीय फौजों को सीमा पर तैनाती का आदेष दे दिया। भारतीय सेना ने भी त्वरित गति से लामबंदी करके पाकिस्तानी सेना को भौचक्का कर दिया। पाकिस्तानी सेना अपनी अफगानिस्तान से लगी पष्चिमी सीमा पर तैनात फौजों को भारत से लगी पूर्वी सीमा पर षिफ्ट नहीं कर पाई और जब…

Continue reading

भारत चीन की कहानी – कर्नल बी बी वत्स की जुबानी – 6

India China Story

भारतीय सेना बनाम् पी.एल.ए. युद्ध में मुख्यतः दो चीजों अहम होती हैं। पहली सैनिकों की सोच, मानसिक शक्ति और देष प्रेम की भावना। दूसरी सैनिकों के पास युद्ध के लिए हथियारों की मारक क्षमता। एक प्रसिद्ध कहावत है कि हथियार से ज्यादा हथियार को चलाने वाली की मानसिक शक्ति और क्षमता ज्यादा महत्वपूर्ण होती है। अगर ऐसा नहीं होता तो सारागढ़ी के युद्ध में (फिल्म केसरी) 21 सिख जवान हवलदार ईषर सिंह के नेतृत्व में 12000 से ज्यादा अफगान कबालियों…

Continue reading

  • Delight